हर घर तिरंगा : असम ने किया कमाल, 9 अगस्त तक ही बेच दिए 16 करोड़ रुपए के तिरंगे

भारत के 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देशवासियों को अपने घरों में 13 से 15 अगस्त तक तिरंगा फहराने के लिए प्रोत्साहित को सरकार ने हर घर तिरंगा अभियान शुरू किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस अभियान की शुरुआत करने के बाद, सभी डाकघर तिरंगे की बिक्री कर रहे हैं।

तिरंगे की बिक्री ने बनाया कीर्तिमान

असम में अब तक करीब 53 लाख तिरंगे झंडे बिके

झंडों की बिक्री से जुटाए गए 16.07 करोड़ रुपये

देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। इस मौके पर सरकार की ओर से एक कैंपेन चलाया जा रहा है, जिसकी थीम है ‘हर घर तिरंगा’ इसे लेकर पूरे देश में उत्साह देखने को मिल रहा है। इसका अंदाजा स्वतंत्रता दिवस से पहले राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री देखकर लगाया जा सकता है, जो रिकॉर्ड बना रही है। सिर्फ असम में अब तक 16 करोड़ रुपये से ज्यादा के तिरंगे बिक चुके हैं।

राज्य में तिरंगे झंडे की रिकॉर्ड बिक्री

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, असम में 15 अगस्त से छह दिन पहले ही तिरंगे की बिक्री ने कीर्तिमान बना दिया है। अब तक राज्य में हर घर तिरंगा अभियान के तहत कुल 16.07 करोड़ रुपये कीमत के तिरंगे बेचे जा चुके हैं। इसमें बताया गया कि मंगलवार तक असम में स्वयं सहायता समूहों द्वारा तैयार किए गए कुल 32,58,134 राष्ट्रीय झंडों की बिक्री हुई. इससे जुटाई गई कुल रकम की बात करें तो यह 12.47 करोड़ रुपये है।

स्वयं सहायता समूहों ने थामी कमान

असम के पंचायत एंड रूरल डेवलपमेंट मिनिस्टर रंजीत कुमार दास ने जानकारी देते हुए बताया कि हर घर तिरंगा अभियान शुरू होने के बाद से अब तक करीब 53 लाख झंडे बेचे जा चुके हैं।‌ रिपोर्ट में बताया गया कि राज्य में 23,000 से अधिक स्वयं सहायता समूह के सदस्यों द्वारा कुल मिलाकर 35,95,167 राष्ट्रीय ध्वज सिलकर तैयार किए गए हैं। इस प्रक्रिया में कुल 722 सीएलएफ शामिल हैं।

अभी और बढ़ेगा बिक्री का आंकड़ा

राज्य में झंडे के 19,110 एसएचजी बिक्री केंद्र मौजूद हैं. स्थानीय स्तर पर उत्पादन के अलावा, असम सरकार ने केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय को अन्य 50 लाख झंडे उपलब्ध कराने के लिए गुजारिश की है। इनमें से अब तक 39.26 लाख झंडे राज्य सरकार को मिल चुके हैं. अभी 15 अगस्त में कई दिन बाकी हैं, तो जाहिर है कि तिरंगे झंडों की बिक्री का आंकड़ा और नए रिकॉर्ड बना सकता है।

दिल्ली में भी जबर्दस्त डिमांड

दिल्ली में भी तिरंगे की बिक्री में 50 गुना की बढ़ोतरी आ गई है. यहां पूरे भारत से ऑर्डर आ रहे हैं. हर घर तिरंगा अभियान के तहत, 13 से 15 अगस्त के बीच 20 करोड़ घरों में झंडे लगाने का लक्ष्य है. कोलकाता में भी तिरंगे की भारी डिमांड है।

इंडिया पोस्ट दे रहा फ्री डिलीवरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस अभियान की शुरुआत करने के बाद, सभी डाकघर तिरंगे की बिक्री कर रहे हैं. बता दें 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लोगों को अपने घरों में 13 से 15 अगस्त तक तिरंगा फहराने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए यह अभियान शुरू किया गया है. भारतीय डाक सेवा ने इस कैंपेन के तहत ऑनलाइन झंडे खरीदने पर फ्री डिलीवरी की सुविधा भी शुरू की है.

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.