आखिरकार दरिंदगी के शिकार बच्चे ने 13 दिनों बाद तोड़ दिया दम, दिल्ली में 18 सितंबर को तीन किशोरों ने किया था 12 साल के बच्चे के साथ कुकर्म

National news : देश की राजधानी दिल्ली में एक 12 साल के मासूम बच्चे के साथ हुई दरिंदगी पूर्ण घटना ने सबका दिल दहला दिया है। 13 दिन पहले तीन किशोरों ने उस बच्चे के साथ सामूहिक कुकर्म किया था। इस दौरान बच्चे के मलद्वार में तीनों किशोरों ने सरिया डाल दिया था और बच्चे की जमकर पिटाई भी की थी। दिल्ली के लोकनायक अस्पताल के आइसीयू में भर्ती बच्चे ने शनिवार को दम तोड़ दिया। डॉक्टर उसकी मौत का कारण संक्रमण और अंदरूनी चोट बताया जा रहा है। इस मामले में पकड़े गए दो आरोपितों को जमानत मिल चुकी है, जबकि तीसरा फरार है। पुलिस ने मृतक के घर के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी है। 

बच्चे के पिता दिल्ली में ही मजदूरी करते हैं 

बच्चे का परिवार नई दिल्ली के सीलमपुर इलाके की झुग्गियों में रहता है। पिता मजदूरी करते हैं, मां गृहिणी हैं। एक बड़ा भाई और तीन बहनें हैं। बच्चा सरकारी स्कूल में पांचवीं कक्षा में पढ़ता था। गत 18 सितंबर को पड़ोस में रहने वाला उसका दोस्त दो साथियों के साथ घर पहुंचा और खेलने के बहाने उसे झाड़ियों में ले गया। वहां तीनों ने बच्चे के साथ बारी- बारी से कुकर्म किया। इसके बाद किशोरों की हैवानियत यहीं नहीं रुकी थी। उन्होंने उसके मलद्वार में रड डाल दिया था। विरोध पर ईंट से वार कर उसे लहूलुहान कर दिया। उसे चुप रहने के लिए डराया धमकाया। बच्चा इतना डर गया था कि घटना के दो दिन बाद तक वह दर्द सहन करता रहा। चोट के बारे में परिजनों के पूछने पर झूठ बोल दिया कि वह गिर गया था। जब उसे असहनीय दर्द होने लगा तो उसने 20 सितंबर को परिजनों को आपबीती बताई थी। शुरुआत में उसे जग प्रवेश चंद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन हालत गंभीर होने पर उसे 22 सितंबर को लोक नायक अस्पताल भेज रेफर कर दिया गया था।

बच्चे के मुंह में किशोरों ने की थी लघुशंका

अब पीड़ित बच्चे का एक वीडियो सामने आया है। यह वीडियो आरोपित किशोरों की हैवानियत की कहानी बयां कर रहा है। यह वीडियो बच्चे के परिजनों ने बनाया है। इसमें वह सरिया डालने से तकलीफ को बयां कर रहा है। वीडियो से पता चलता है कि उसे किसी ऊंची जगह से नीचे फेंका गया था। आरोप है कि आरोपितों ने बच्चे के मुंह में लघुशंका भी की थी।

मुख्य आरोपित किशोर परिवार समेत फरार

इस मामले में दो आरोपित किशोरों को पुलिस ने पकड़ा था, उनकी उम्र 12 वर्ष है। दोनों को कोर्ट से जमानत मिल चुकी है। जमानत मिलने के बाद पुलिस ने दोनों किशोरों को उनके परिजनों के हवाले कर दिया है। वहीं दरिंदगी के शिकार बच्चे के पड़ोस में रहने वाला तीसरा और मुख्य आरोपी अपने परिवार के साथ फरार हो चुका है। पीड़ित परिवार का आरोप है कि पुलिस ने तीसरे आरोपित को तलाशने का प्रयास ही नहीं किया। इस मामले में शिकायत के चार दिन बाद पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की थी। 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.