बीसीसीएल से वाहन मालिकों की वार्ता विफल होने के बाद धरना बदला अनशन में, वाहन बंदी आज से

बीसीसीएल सिजुआ क्षेत्रीय कार्यालय के समक्ष जारी कोयलांचल वाहन ओनर्स एसोसिएशन का तीन दिवसीय धरना गुरुवार से आमरण अनशन में तब्दील हो गया। साथ ही वाहनों की बंदी भी कर दी गयी। धरना के तीसरे और अंतिम दिन जनता मजदूर संघ ने समर्थन देते हुए बीसीसीएल प्रबंधन को चेतावनी देते हुए कहा कि वाहन मालिकों की मांग जायज है। इसलिए इनकी मांगों को हर हाल में पूरा किया जाय। 

जनता मजदूर संघ में उग्र आंदोलन की चेतावनी दी

जनता मजदूर संघ के अध्यक्ष विजय यादव व सचिव रामेश्वर सिंह ने कहा कि प्रबंधन गलत कर रहा है। अगर मांग नहीं मानी गयी तो उग्र आंदोलन होगा। वाहन मालिकों की मांग को लेकर आज एरिया एपीएम से वार्ता हुई, लेकिन सहमति नहीं बन पाई। वार्ता में वाहन एसोसिएशन के अध्यक्ष उदय प्रताप सिंह, जमसं के एरिया अध्यक्ष विजय यादव, जोगता नागरिक समिति के अध्यक्ष अनुज सिन्हा एसोसिएशन के सचिव ग्यास एवं अन्य लोग मौजूद थे। इस दौरान एपीएम ने वाहन मालिकों से कहा कि आपलोगों की मांग को लेकर कोयला भवन को अवगत करा दिया गया है। वहां से जो आदेश आएगा उसका पालन किया जाएगा। इसलिए आपलोग अपना आंदोलन समाप्त कर दें। इस दौरान वाहन मालिकों ने कहा कि तत्काल बंद किए गए 8 एम्बुलेंस को चालू कर दिया जाय, तभी आंदोलन समाप्त होगा।

6 जून को आत्मदाह करेंगे बीएन पांडेय

इधर, कोयलांचल वाहन ओनर्स एसोसिएशन की मांग पूरा नहीं होने के कारण सिजुआ एरिया में शुक्रवार से वाहन मालिक पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत अनिश्चितकालीन वाहन बंदी करेंगे। इसके साथ ही सिजुआ एरिया के वाहन मालिक आमरण अनशन पर बैठेंगे। इसके बावजूद मांगों को पूरा नहीं हुआ तो यह आंदोलन उग्र रूप ले लेगा। मांगे नहीं माने जाने पर 6 जून को बीएन पांडेय ने आत्मदाह करने का एलान किया है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.