Big success :इसरो की लंबी छलांग, 36 उपग्रहों को एक साथ लेकर एलएमवी-3 राकेट ने भरी उड़ान

Latest news : भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने आधी रात बाद 12:07 बजे अंतरिक्ष के क्षेत्र में इतिहास रच दिया। इसरो ने इतिहास रचते हुए वाणिज्यिक उपग्रह प्रक्षेपण बाजार (commercial satellite launch market)  में बड़ा कदम रखा। इसरो के सबसे भारी राकेट 43.5 मीटर लंबे एलवीएम-3 (launch vehicle mark-3) ने ब्रिटिश स्टार्टअप के 36 उपग्रहों को लेकर उड़ान भरी। यह प्रक्षेपण आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से किया गया। एलवीएम3-एम2 /वनवेब इंडिया-1 मिशन के तहत इन संचार उपग्रहों को पृथ्वी की निचली कक्षा (LEO) में स्थापित किया गया। बता दें कि 8,000 किलोग्राम तक के उपग्रहों को ले जाने में एलएमवी-3 सक्षम है।

सफल प्रक्षेपण पर इसरो अध्यक्ष ने जताई खुशी

इसरो अध्यक्ष एस सोमनाथ ने प्रक्षेपण पर खुशी जताते हुए कहा कि दुनिया में उपग्रहों को लॉन्च करने के लिए राकेट की कमी है। ऐसे में भारत अपने एलवीएम-3 राकेट के साथ वैश्विक वाणिज्यिक उपग्रह प्रक्षेपण बाजार में इस कमी को दूर कर सकता है। वनवेब निजी उपग्रह संचार कम्पनी है। भारत की कम्पनी भारती एंटरप्राइजेज वनवेब में एक प्रमुख निवेशक और शेयरधारक है। इस प्रक्षेपण के साथ ही ‘एलवीएम-3’ वैश्विक वाणिज्यिक उपग्रह प्रक्षेपण बाजार में कदम रखेगा। 

‘एलवीएम-3’ को पहले ‘जीएसएलवी एमके-3’ राकेट के नाम से जाना जाता था

बताते चलें कि ‘एलवीएम-3’ को पहले ‘जीएसएलवी एमके-3’ राकेट के नाम से जाना जाता था। अंतरिक्ष विभाग और अंतरिक्ष एजेंसी की वाणिज्यिक शाखा के तहत काम करने वाले सार्वजनिक क्षेत्र के केन्द्रीय उद्यम (सीपीएसई) न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड ने ब्रिटेन स्थित वनवेब के साथ दो प्रक्षेपण अनुबंधों पर हस्ताक्षर किये हैं। वनवेब के अध्यक्ष सुनील भारती मित्तल ने कहा कि कम्पनी 72 उपग्रहों को लांच करने के लिए इसरो /न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड को 1,000 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान करेगी। 36 उपग्रहों के पहले बैच को शनिवार-रविवार मध्यरात्रि को एलवीएम3 राकेट से लॉन्च किया गया। 36 उपग्रहों का प्रक्षेपण भी अगले साल जनवरी में एलवीएम 3 राकेट से होगा। वनवेब ने दुनिया भर में अपनी ब्राडबैंड सेवाओं के लिए 648 उपग्रहों को लांच करने की योजना बनायी है।

इसरो की सफलता पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी बधाई

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (pm Narendra Modi) ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के सबसे भारी प्रक्षेपण यान एलवीएम-3 के सफल प्रक्षेपण पर बधाई दी है।

प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने रविवार को ट्वीट (tweet) संदेश में कहा कि वैश्विक कनेक्टिविटी के लिए बने 36 वनवेब उपग्रहों के साथ हमारे सबसे भारी प्रक्षेपण यान एलवीएम-3 के सफल प्रक्षेपण पर न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (एनएसआईएल), भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्धन और प्राधिकरण केंद्र (इन-स्पेस) और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) को बधाई। एलवीएम-3 आत्मनिर्भरता का उदाहरण है और वैश्विक वाणिज्यिक लॉन्च सेवा बाजार में भारत की प्रतिस्पर्धात्मक बढ़त को बढ़ाता है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.