|

Bumper Vacancies : यहां 10 लाख से अधिक नौकरियों के पद खाली, नहीं मिल रहे काम करने वाले, अगर आप…

Job in Kanada : कोरोना महामारी ने दुनिया में रोजगार के तमाम ढांचों को बर्बाद कर दिया। छोटे-मोटे लाखों उद्योग धंधे बंद हो गए। भारत में पिछले लगभग 40 वर्षों में सबसे ज्यादा बेरोजगारी की भयावहता है। लेकिन, कनाडा में स्थिति अलग है। इंटरनेशनल मीडिया के मुताबिक, कनाडा में 10 लाख से ज्यादा नौकरियों के पद खाली हैं। मई 2021 से रिक्तियों की संख्या में 3 लाख से अधिक की वृद्धि हुई है। मई 2022 के लिए श्रम बल सर्वेक्षण के अनुसार कई उद्योगों में भारी संख्या में श्रमिकों की कमी है। इस रिपोर्ट में पलायन करने वाले और काम करने वाले लोगों की बढ़ती उम्र को लेकर भी चिंता व्यक्त की गई है।

अप्रवासियों को नौकरी मिलने का अवसर

 रिपोर्ट के अनुसार कनाडा में हाई जॉब वैकेंसी है। CIC News की रिपोर्ट बताती है कि कनाडा साल 2022 में 4.3 लाख अपने नागरिकों को जॉब के लिए स्वागत करने को तैयार है। यही आकंड़ा साल 2024 तक 4.5 लाख पहुंचने की संभावना है। ऐसे हालात में कनाडा जहां कि बेरोजगारी कम है और नौकरियों की संख्या काफी अधिक है, में  अप्रवासियों के पास इन मौकों को हासिल करने का अच्छा मौका है। इसलिए, यदि आप कनाडा में स्थायी निवास के लिए आवेदन करने के लिए एक्सप्रेस एंट्री का उपयोग करना चाहते हैं तो यह आपके लिए एक अच्छा अवसर हो सकता है। एक अन्य सर्वेक्षण के अनुसार, कुछ राज्यों में अब पहले से कहीं अधिक पद उपलब्ध हैं। अलबर्टा और ओंटारियो में अप्रैल में प्रत्येक वेकैंसी के लिए 1.1 बेरोजगार लोग थे। ये संख्या मार्च में 1.2 थी और एक साल पहले इसकी संख्या 2.4 रह गई थी। 

55 साल से अधिक उम्र के लोग छोड़ रहे नौकरी

गौरतलब है कि कनाडा में बहुत कम ही लोग नौकरी करने को तैयार हैं। साथ ही 55 साल से अधिक आयु के अधिकतर लोग भी अपनी नौकरियों को छोड़ रहे हैं। ऐसे में कनाडा के श्रम बाजार में नाटकीय रूप से गिरावट दर्ज की गई है। सीआईसी न्यूज के अनुसार, कनाडा में 1946 से 1964 के बीच जन्मे 90 लाख लोग इस दशक में सेवानिवृत्त होने वाले हैं। हाल ही में आरबीसी सर्वेक्षण के अनुसार, एक तिहाई कनाडाई जल्दी सेवानिवृत्त हो रहे हैं और 10 में से तीन लोग जो सेवानिवृत्ति के करीब हैं, वे महामारी के कारण अपनी सेवानिवृत्ति में देरी कर रहे हैं। इन तमाम चुनौतियों के बीच कनाडा के प्रजनन दर में भी भारी गिरावट देखने को मिल रही है। प्रजनन दर प्रति महिला 1.4 बच्चों के रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गई है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.