आतंक के साये में जी रहे हैं चीन के उइगर मुसलमान, भागने का प्रयास करने पर मार दी जाती है गोली, बंदी शिविरों से लीक हुए दस्तावेज

चीन में उइगर मुसलमानों की क्या स्थिति है, इससे दुनिया पहले से ही वाकिफ है। फिर भी मुस्लिम देश चीन पर सवाल उठाना मुनासिब नहीं समझते हैं। अभी हाल ही में लीक हुए दस्तावेजों से उइगर मुसलमानों की दयनीय स्थिति का खुलासा हुआ है। बंदी शिविरों में उइगर मुसलमान बेहद आतंकित हैं। अगर कोई इन शिविरों से भागने का प्रयास करता है तो उसे बिना पूछे गोली मार दी जाती है। चीन में उइगर मुसलमानों के लिए बने विशेष बंदी शिविरों से लीक हुए दस्तावेजों में उइगर मुसलमानों के मानवाधिकारों के हनन व उन पर होने वाले अत्याचारों के लिए चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के शीर्ष नेतृत्व व राष्ट्रपति शी जिनपिंग की भूमिका पर भी सवाल उठ रहे हैं। हालात इतने खराब हैं कि भागने के प्रयास पर उइगर मुसलमानों को सीधे गोली मार दी जाती है।

बंदी शिविरों में उइगरों की बढ़ती जा रही है संख्या

चीन के शिनजियांग में उइगर मुसलमानों के बंदी शिविर हैं। चीन की सरकार इन शिविरों में बंदियों के दिल-दिमाग साफ कर उन्हें व्यावसायिक कौशल व प्रशिक्षण का दावा करती है। वहीं इन शिविरों से लीक हुए दावों में वहां उइगर मुसलमानों को अत्यधिक दंडित किये जाने की बात सामने आई है। इनके अनुसार 2017 के बाद से इन शिविरों में बंदी उइगर मुसलमानों की संख्या बढ़ती जा रही है। 2020 तक 20 लाख लोगों को इन शिविरों में रखे जाने की बात सामने आई है।

बिना कारण ले लिया जाता है हिरासत में

शिविरों में उइगरों प्रशिक्षुओं को दंडित किया जाता है। कई को बिना किसी कारण के हिरासत में लिया जाता है। इन्हें चीन के प्रति अविश्वसनीय माना जाता है। चीन में उइगुर मुसलमानों को आपसी झगड़े जैसे मामूली या झूठे आरोपों तक में 5 से 25 साल तक की कैद दी जाती है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक जांच राज्य में साल 2014 के बाद से लंबी सजा के लिए उन पर आतंक फैलाने, अलगाववाद और नफरत फैलाने के आरोप लगाने के मामले तेजी से बढ़े हैं।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.