| |

क्या आप जानते हैं : दो राज्यों में बंटा है दिलवा रेलवे स्टेशन, एक प्लेटफॉर्म बिहार में तो दूसरा है झारखंड में

रेलवे से जुड़ी ऐसी कई ऐसी बातें हैं, जिसकी जानकारी सबको नहीं होती है। जब ऐसी जानकारी सामने आती है तो वह खबर बन जाती है। बहुत कम लोगों को पता है कि भारत में एक ऐसा रेलवे स्टेशन है, जो दो राज्यों की सीमाओं को जोड़ता है। यह रेलवे स्टेशन बिहार- झारखंड को जोड़ता है। हांलाकि यह बात अमूमन सभी जानते हैं कि साल 2000 में बिहार से झारखंड अलग हो गया था। आज हम आपको बिहार – झारखंड को जोड़ने वाले एक ऐसे ही स्टेशन के बारे में बताने जा रहे हैं।

इस स्टेशन के कर्मचारी राज्य की सीमा को नहीं मानते

बिहार – झारखंड के अलग होने के बाद भी एक ऐसे रेलवे स्टेशन है, जो दोनों राज्यों को जोड़े रखता है। कोडरमा का दिलवा रेलवे स्टेशन मेन लाइन झारखंड में है तो वहीं प्लेफॉर्म और लूप लाइन बिहार में आती है। हावड़ा दिल्ली मेन लाइन का ये है कोडरमा का दिलवा रेलवे स्टेशन। दिलवा स्टेशन से गुजरने वाली मेन लाइन झारखंड में है तो लूप लाइन बिहार में। साल 2000 में बिहार से झारखंड अलग हो गया था।  इसके बाद दोनों राज्यों की सीमाएं निर्धारित की गई थीं, लेकिन यह दिलवा स्टेशन और इस स्टेशन के कर्मी राज्यों की सीमाओं को नहीं मानते।

ब्रिटिश काल में हुआ कोडरमा-गया रेलखंड का निर्माण

ब्रिटिश काल में कोडरमा से गुजरने वाली हावड़ा दिल्ली मेन लाइन के कोडरमा-गया रेलखंड का निर्माण किया गया था। उस समय न ही बिहार था और न ही झारखंड था. यह पूरा इलाका मगध के नाम से जाना जाता था। दिलवा स्टेशन से सटे एक टनल से होकर ट्रेन गुजरती है और जब यहां से गुजरने वाले रेलयात्री स्टेशन पर लगे बिहार और झारखंड का यह बोर्ड देखते हैं तो पहली बार में चौक जाते हैं। कई बार तो बिहार- झारखंड जोड़े रखने वाले इस स्टेशन पर घटना दुर्घटना के समय परेशानी भी होती है। आरपीएफ और जीआरपी के बीच दोनों राज्यों की सीमा विवाद से कई बार समस्याएं बढ़ जाती है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.