पहले नौकरी निकलती थी तो चाचा-भतीजे वसूली पर निकल पड़ते थे : योगी आदित्यनाथ

Lucknownews Latest
महात्मा विदुर, महर्षि श्रृंगी और महर्षि वेदव्यास की तपोभूमि मैनपुरी नया इतिहास लिखने जा रही है। पहले जब युवाओं के लिए नौकरी निकलती थी तब वसूली के लिए चाचा अलग और भतीजे अलग निकल पड़ते थे। शोषण होता था युवाओं का और बदनाम होता था इटावा और मैनपुरी। अब मैनपुरी के लोग एक परिवार की विरासत से निकलकर ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास, सबका प्रयास’ की परंपरा का पालन करने वाली भारतीय जनता पार्टी की जीत का इतिहास बनाने वाले हैं।

नेताजी ने कह दिया था अब भाजपा ही आएगी

ये बातें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को करहल के नरसिंह यादव इंटर कॉलेज मैदान में बीजेपी प्रत्याशी रघुराज सिंह शाक्य के समर्थन में आयोजित जनसभा के दौरान कही। उन्होंने मैनपुरी की धरती से मुलायम सिंह यादव को नमन करते हुए कहा कि नेताजी ने 2014 में ही संसद में कह दिया था कि अब भाजपा ही आएगी। नेताजी के आशीर्वाद का परिणाम था कि हमने आजमगढ़ और रामपुर में सपा के परंपरागत सीटों को ध्वस्त करते हुए भारी बहुमत से जीत हासिल की और अब मैनपुरी भी हम जीतने जा रहे हैं।

उन्हें मंत्री से लेकर ब्लॉक प्रमुख परिवार का ही चाहिए

मुख्यमंत्री ने सपा पर सीधे सीधे हमला बोलते हुए कहा कि कुछ लोग सेक्युलरिज्म के नारे लगाते हैं और समाजवाद की बात करते हैं, मगर काम केवल परिवारवाद का करते हैं। उन्हें सब परिवार का ही चाहिए। सांसद, मंत्री, विधायक यहां तक कि ब्लॉक प्रमुख भी परिवार का ही होना चाहिए। अखिलेश यादव पर जुबानी हमला करते हुए सीएम योगी ने कहा कि उन्हें अपने मित्रमंडली से फुर्सत मिले तब तो वो जनता के बीच आएं। वह केवल मैनपुरी की जनता की भावनाओं को बहकाने आते हैं।

ये नया उत्तर प्रदेश है

मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां से कई बार चुनाव जीतने वाले नेताओं ने जनता के साथ छल करके बंगले बना लिए, मगर मैनपुरी इटावा के गरीबों के मकान तो दूर उनकी जमीनों पर ही कब्जा हो गया। गरीबों की संपत्ति पर जिसने कब्जा किया, उनकी सम्पत्ति जब्त करके उसपर हम गरीबों का मकान बनवा रहे हैं। माफिया की जमीन जब्त की जा रही है। जिसने भी गरीबों की जमीन हड़पने की जुर्रत की उसे ब्याज सहित चुकता करना पड़ेगा। आज प्रदेश में सुरक्षा का बेहतर माहौल बना है। खनन और भू माफिया कभी यहां गरीबों और व्यापारियों की संपत्तियों पर कब्जा करते थे, आज उन्हें पता है कि जो कब्जा किया है वो तो जाएगा ही, साथ में बाप दादा की संपत्ति भी चली जाएगी। ये नया उत्तर प्रदेश है, जो गरीब, किसान, बहन-बेटियों की सुरक्षा और स्वाभिमान की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। ये दंगामुक्त प्रदेश कानून के राज पर विश्वास करता है। 

गरीबों को दिये 45 लाख पक्के मकान

मुख्यमंत्री ने कहा कि सपा के शासन में ना गरीबों को कभी शौचालय मिला, ना रसोई गैस कनेक्शन और ना ही बिजली कनेक्शन। मगर भाजपा शासन में जाति, मत, मजहब, पंथ के आधार पर भेदभाव नहीं किया जाता है। आज प्रदेश के हर गरीब को बिना भेद भाव के पक्के मकान दिये जा रहे हैं। हमने अबतक 45 लाख पक्के मकान गरीबों को दिया है। साथ ही 10 लाख मकान बनकर तैयार हैं जिन्हें हम गरीबों को देने जा रहे हैं।

बिना भेदभाव के नौकरी मिलती है

सीएम ने कहा कि आज हर जाति का नौजवान बिना पैसे दिये सरकारी नौकरी और शासन की योजनाओं को प्राप्त कर रहा है। पहले नौकरी निकलती थी तो चाचा अलग निकल पड़ते थे वसूली के लिए और भतीजे अलग निकल पड़ते थे। शोषण होता था नौजवानों का, बदमान होता था इटावा और मैनपुरी। आज बिना भेदभाव के नौकरी मिलती है।

चाचा शिवपाल को कुर्सी के हैंडिल पर बैठना पड़ा

मुख्यमंत्री ने शिवपाल यादव की स्थिति पर कटाक्ष करते हुए कहा कि आज उनकी हालत पेंडुलम की तरह हो गयी है। बेचारे को पिछली बार कितना बेइज्जत किया गया। कुर्सी तक नहीं मिली, कुर्सी के हैंडिल पर बैठना पड़ा। आज जो लोग फुटबॉल बने हुए हैं उन्हें सम्मान और स्वाभिमान के लिए काम करना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे यहां जाति, मत और मजहब का भेद नहीं। कोई भी कार्यकर्ता किसी भी पद पर जा सकता है। कोई भी किसी एक खास परिवार का नहीं है। अलग अलग परिवार और मत-मजहब, जाति के होने के बावजूद हम एक भाजपा परिवार हैं और मैं भाजपा परिवार में मैनपुरी को मिलाने आया हूं।

अयोध्या जैसा ही होगा मैनपुरी का विकास

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर का निर्माण हो रहा है। अयोध्या के विकास के लिए आज 30 हजार करोड़ की परियोजनाएं चल रही है। विकास की ऐसी ही प्रक्रिया आपके क्षेत्र में भी आगे बढ़ेगी। इसके लिए अच्छे लोगों को चुनना होगा, अवसरवादियों को नहीं। केवल चुनाव के समय नातेदारी गढ़ने वालों के साथ नहीं, बल्कि हर समय आपके सुख दुख में खड़े होने वाले को चुनना होगा।

मैनपुरी को तय करना है अपना भविष्य

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने रघुराज सिंह शाक्य के कार्यों को बहुत नजदीक से देखा है। संसद में हम साथी थे। अपने क्षेत्र के विकास के लिए वे लगातार कार्य करते रहे हैं। आज वे आपके बीच में हैं। अब मैनपुरी को तय करना है कि वो किसी परिवार की विरासत नहीं, बल्कि एक सामान्य कार्यकर्ता के नेतृत्व में नई ऊंचाइयों को प्राप्त करने के लिए आगे बढ़ेगा।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *