झारखंड विधानसभा का विशेष सत्र 5 सितंबर को, कैबिनेट में हुआ फैसला, CM हेमंत फिर हासिल करेंगे विश्वास मत

Jharkhand News  : झारखंड में जारी सियासी संकट के बीच 1 सितंबर को हेमंत कैबिनेट की बैठक हुई। इसमें 5 सितंबर को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने का फैसला किया गया। सीएम हेमंत सोरेन फिर से विश्वास मत हासिल करेंगे। दूसरी ओर आज ही महागठबंधन के नेता राज्यपाल रमेश बैस से मिले और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की विधायकी को लेकर चुनाव आयोग से मिली सूचना का जल्द खुलासा करने की मांग की। उन्हें इस संबंध में एक ज्ञापन भी सौंपा।

भ्रम से सरकार को अस्थिर करने की कोशिश

ज्ञापन में CM की विधायकी रद्द होने की खबरों से पैदा हुई भ्रम की स्थिति पर चिंता जताई गई और कहा गया है कि जल्द से जल्द इसे साफ किया जाए। इस तरह के भ्रम से सरकार को डिस्टैबिलाइज करने की कोशिश हो रही है। गवर्नर ऑफिस के आधे-अधूरे लीक से कन्फ्यूजन पैदा हो गया है, जो प्रशासन पर असर डाल रहा है। प्रतिनिधिमंडल में सांसद धीरज साहू, गीता कोड़ा, विजय हांसदा, महुआ माजी, पूर्व विधायक श्री बंधु तिर्की, विनोद कुमार पांडेय, सुप्रियो भट्टाचार्य, राजद के प्रदेश उपाध्यक्ष विनोद भोक्ता उपस्थित थे।

राज्यपाल ने कहा- 1-2 दिन में कानूनी सलाह लेकर स्थिति स्पष्ट कर दी जाएगी

राज्यपाल से मुलाकात के बाद जेएमएम महासचिव विनोद पांडेय ने कहा कि राज्यपाल ने कहा है कि चुनाव आयोग से चिट्ठी मिली है। इस पर 1-2 दिन में कानूनी सलाह लेकर इस पर स्थिति स्पष्ट कर दी जाएगी। सीएम के इस्तीफे की बात को नकारते हुए विनोद पांडेय ने कहा कि राज्यपाल से हमने कहा है कि जिस तरह से मीडिया में खबरें आ रही हैं, उससे भ्रम की स्थिति पैदा हो रही है। राजभवन से जानकारी दिए जाने का हवाला दिया जा रहा है। जिस पर राज्यपाल रमेश बैस ने कहा कि राजभवन से कोई जानकारी नहीं दी गई है। 1-2 दिनों में पूरी स्थिति साफ कर दी जाएगी।

छत्तीसगढ़ में विधायकों की प्रेस कॉन्फ्रेंस

 दूसरी तरफ रायपुर के मेफेयर रिसॉर्ट में रुके झारखंड के विधायकों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर BJP पर हमला बोला। उनका कहना है कि BJP उनके घर में चोरी की कोशिश कर रही है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस के दो और जेएमएम के 2 विधायकों के साथ कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर मौजूद थे। कांग्रेस की विधायक दीपिका पांडेय ने कहा कि उनकी सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है। अपने घर में चोरी के डर से सभी विधायक यहां रह रहे हैं। संख्या होने के बाद भी हमारी सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है। आज हम अपनी जनता की खुशियों और तकलीफ में शामिल नहीं हो पा रहे हैं। सरकारी पैसे से मेफेयर रिसॉर्ट में रहने के सवाल पर उन्होंने कहा कि वे अपनी कुव्वत से यहां रह रहे हैं। न ही वो झारखंड सरकार और न ही छत्तीसगढ़ सरकार के पैसे से यहां रह रहे हैं। JMM के विधायक सुदिव्य सोनू ने कहा कि केंद्र सरकार के सौतेले रवैए के बावजूद हम काम कर रहे हैं। हेल्थ से जुड़े मुद्दों पर केंद्र का सौतेला व्यवहार देखने को मिल रहा। राज्य की खुशहाली के लिए जो काम किए जाते हैं वो आज हो रहा है। सीएम असाध्य रोग स्कीम में हमने बदलाव किए हैं।

कैबिनेट में पुरानी पेंशन स्कीम को मंजूरी

कैबिनेट मीटिंग में ओल्ड पेंशन स्कीम लागू करने को मंजूरी दी गई है। बैठक में कुल 25 प्रस्तावों को स्वीकृति मिली है। बाद में सरकार की ओर से बताया गया कि एक दिन का मानसून सत्र छूट गया था, जिसे 5 सितंबर को बुलाया गया है। माना जा रहा है कि इसके जरिए सोरेन सरकार दिल्ली की केजरीवाल सरकार की तरह खुद ही विधानसभा में विश्वास मत पारित कर सकती है।

कैबिनेट के बड़े फैसले

पुरानी पेंशन योजना बहाल करने के लिए निर्धारित SOP की स्वीकृति।

5 सितंबर को झारखंड विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाएगा, ये मानसून सत्र का ही एक्सटेंशन है।

राज्य के 89 मॉडल स्कूल में छात्रों के खाली सीट पर नामांकन की स्वीकृति, निकट के प्रखंड के स्टूडेंट भी नामांकन ले सकेंगे।

स्वास्थ्य विभाग के तहत पारा मेडिकल कर्मी के नियुक्ति नियमावली 2018 में संशोधन की स्वीकृति।

सहायक पुलिस कर्मी के सेवा अवधि को एक साल का विस्तार दिया गया।

वीआईपी/वीवीआईपी के लिए एक महीने के लिए चार्टर्ड प्लेन के लिए 2 करोड़ 6 लाख मंजूर।

पंचायत पद पर होगी बहाली।

फिंगर प्रिंट सेवा नियमावली मंजूर।

NP यूनिवर्सिटी में 145 पदों पर बहाली होगी।

ग्राम रक्षा दल के सदस्य होंगे बहाल।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *