लो ब्लड प्रेशर की परेशानी है तो सुबह या शाम में रोज करें मेडिटेशन,जानिए कैसे…

Life (जीवन) का संतुलन मन की शांति में है और मन की शांति ध्यान और योग से प्राप्त होती है। हमारे जीवन को संतुलित और शांतिमय बनाए रखने के लिए ध्यान और योग का महत्व है। ध्यान और योग के माध्यम से अनेक प्रकार की बीमारियों के इलाज में भी मदद मिलती है। आज के समय में हाई ब्लड प्रेशर और लो ब्लड प्रेशर की बीमारी तनाव के कारण उत्पन्न होती है। असली इलाज उसका मेडिकल साइंस में है, लेकिन ध्यान और योग के माध्यम से हम इन्हें नियंत्रित कर सकते हैं। लो ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में सुबह और शाम का मेडिटेशन यानी ध्यान बहुत उपयोगी होता है।

अन्य रोगों से भी मिलेगी मुक्ति

 धमनियों में होने वाले संकुचन, लो सोडियम लेवल और चिकित्सीय समस्याओं को ठीक करने में सहायता करता है। लो ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करके आप कई अन्य बीमारियों को दूर रख सकते हैं। इससे हृदय रोग, स्ट्रोक, क्रोनिक किडनी डिजीज और अन्य बीमारियां नहीं होती है। साथ ही सिरदर्द और चक्कर आने की दिक्कत से भी मेडिटेशन से काफी लाभ मिलता है। इससे आपका मन शांत रहता है और धीरे-धीरे स्थिति ठीक होने लगती है और आप वापस पहले जैसे स्वस्थ हो सकते हैं। बस आपको मेडिटेशन शांत और खुले वातावरण में करना चाहिए और खुद को सभी तरह के विचार से मुक्त रखने की कोशिश करनी चाहिए। साथ ही इस बात का ध्यान भी रखें कि इस रूटीन को आप ठीक होने के बाद भी फॉलो करें,ताकि आगे भी आपको कोई परेशानी न हो।

मेडिटेशन से कैसे मिलता है लाभ 

मेडिटेशन के लगातार अभ्यास से आपके मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र में काफी शांति का अनुभव होता है। यह लो ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह तनाव को कम करके रक्त वाहिकाओं को आराम पहुंचाता है। जिससे लो ब्लड प्रेशर को संतुलित रहता है। यह तंत्रिका तंत्र के उतार-चढ़ाव को नियंत्रित करता है और शरीर में ऊर्जा का संचार करता है। इससे शरीर की सुस्ती और कमजोरी भी दूर होती है। साथ ही आप पूरे दिन फ्रेश महसूस करते हैं। इसके लिए आप सुबह उठकर खुले में 15 मिनट या आधे घंटे मेडिटेशन या सांस से संबंधित ध्यान-योग कर सकते हैं। शुरुआत में अपने मन पर बहुत अधिक जोर न डालें। इसे धीरे-धीरे आप इसे बढ़ा सकते हैं।

मेडिटेशन यानी ध्यान करने के नियम 

1. ध्यान हमेशा सुबह 4 बजे या शाम को 4 बजे करने की कोशिश करें। इस समय आपका शरीर हल्का रहता है और मन बहुत अधिक व्यस्तता का अनुभव नहीं करता है।

2. हमेशा शांत वातावरण में मेडिटेशन करें ताकि मन किसी ओर भटके न। साथ ही आरामदायक स्थिति में बैठें ताकि आप अच्छे से मेडिटेशन कर सकें। 

3. इस दौरान अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखने का प्रयास करें। साथ ही कंधों और गर्दन को बहुत अधिक न खींचे और आराम से बैठें। 

4. मेडिटेशन के दौरान आप आरामदायक कपड़े पहनें। 

5. अगर आपको मेडिटेशन करने में ठंड लगे तो पहले कुछ एक्सरसाइज जरूर कर लें। इससे ब्लड सर्कुलेशन अच्छा होता है। 

6. इस दौरान गहरी सांस लें और सांसों की गति को नियमित बनाए रखें। 

7. मेडिटेशन करते समय चेहरे पर एक मुस्कान जरूर रखें, ताकि मन को शांति मिले।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.