Mumbai- Ahmedabad rail track : बुलेट ट्रेन के लिए भूमि अधिग्रहण का काम करीब-करीब  पूरा

Pm Modi Dream Project Latest News : पीएम नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट मुंबई से अहमदाबाद के बीच चलने वाली बुलेट ट्रेन के लिए भूमि अधिग्रहण का काम करीब-करीब पूरा हो गया है। विवादों के कारण मुंबई में सिर्फ गोदरेज की जमीन के कुछ पार्ट का अभी अधिग्रहण नहीं हुआ है। यह जानकारी बांबे हाई कोर्ट की एक पीठ के समक्ष महाराष्ट्र सरकार के महाधिवक्ता आशुतोष कुंभकोणि ने दी। 

पांच दिसंबर को होगी अगली सुनवाई

आशुतोष कुंभकोणि ने न्यायमूर्ति आरडी धानुका और न्यायमूर्ति एसजी दिगे की खंडपीठ को बताया कि मुंबई में गोदरेज की जमीन को छोड़कर इस परियोजना के लिए भूमि के अधिग्रहण का काम समाप्त हो गया है। राज्य सरकार एवं गोदरेज कंपनी के बीच भूखंड के एक हिस्से को लेकर विवाद चल रहा है। महाधिवक्ता ने इस मामले में कोर्ट से जल्द से जल्द फैसला सुनाने का आग्रह किया है, जिससे सरकार इस भूमि को भी अपने कब्जे में लेकर उस पर काम शुरू कर सके। अब इस मामले में अगली सुनवाई 5 दिसंबर को होगी। 

2019 के बाद महाराष्ट्र में लटक गया काम

गौरतलब है कि मुंबई से अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन 508.17 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। इसमें गुजरात के हिस्से में भूमि अधिग्रहण का काम बहुत पहले ही हो चुका है। लेकिन महाराष्ट्र में 2019 के बाद हुए सत्ता परिवर्तन के कारण अब तक यह काम लटका हुआ है। महाराष्ट्र में भाजपा- शिवसेना के एकनाथ शिंदे गुट की सरकार आने के बाद फिर से इस काम में गति आई है। लेकिन गोदरेज समूह सरकार द्वारा दिए जा रहे मुआवजे से सहमत नहीं है। उसने सरकार के निर्णय को बांबे हाई कोर्ट में चुनौती दी है। जबकि, सरकारी पक्ष का कहना है कि गोदरेज समूह जानबूझकर इस परियोजना में बाधा डालने की कोशिश में जुटा है। 

गोदरेज ने अंग्रेजों से खरीदी थी 3,400 एकड़ भूमि

बताते चलें कि मुंबई में बुलेट ट्रेन का मार्ग कुल 21 किलोमीटर लंबा होगा। उसी मार्ग में विक्रोली उपनगर में स्थित गोदरेज की 3,400 एकड़ भूमि का हिस्सा भी आ रहा है। यह भूमि गोदरेज समूह ने द्वितीय विश्वयुद्ध के समय तत्कालीन ब्रिटिश सरकार से खरीदी थी।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.