आपके जीवन को प्रभावित करते हैं ग्रह, प्रतिकूल ग्रहों को इस प्रकार करें शांत…

Calm down unfavorable planets like this : प्रतिकूल ग्रहों को शांत करने के लिए करें ये उपाय। यह तो सभी जानते हैं कि मनुष्य ही नहीं पूरी पृथ्वी पर ग्रहों का व्यापक असर पड़ता है। प्रतिकूल ग्रह जीवन को तबाह कर देता है तो इन्हें अनुकूल बनाकर अच्छा जीवन जीया जा सकता है। इस लेख में मैं वह छोटी-छोटी जानकारी दूंगा जिनका ध्यान रखकर ग्रहों को शांत किया जा सकता है। ध्यान रहे कि हमेशा सब कुछ पूरी तरह से अनुकूल करना संभव नहीं है। बुरे समय में बुरा होना ही है और अच्छे समय में शुभ फल मिलेंगे ही। उपाय करने से बुरे समय में ग्रह की तीव्रता को कम किया जा सकता है। इसी तरह अच्छे समय में शुभ फल का अधिकाधिक लाभ पाया जा सकता है। इसे करने के लिए निम्न बातों का ध्यान रखें तो स्वयं ही समस्या का समाधान कर सकेंगे।

विश्वास रखें, हर समस्या का है समाधान

विश्वास रखें कि हर समस्या का समाधान संभव है। जीवन में सुख के साथ दुख चलता रहता है। जब तक मनुष्य जीवित है, तब तक समस्याएं साथ नहीं छोड़तीं। यदि समस्याओं का कारण समझ कर उसे दूर करने का प्रयास किया जाए तो राहत भी मिलती है। कई बार ग्रह भी हमारी परीक्षा लेते हैं और जब हम उन्हें प्रसन्न करने के लिए प्रयत्न करते हैं तो बहुत सी समस्याओं का निपटारा आसानी से हो जाता है। इसके लिए मैं यहां पूजा-पाठ, जप ध्यान की बात नहीं कर रहा हूं। अपितु दैनिक जीवन के क्रियाकलाप, आदतें और स्वभाव में सुधार की सलाह दे रहा हूं। इससे भी ग्रहों को प्रसन्न कर अनुकूल बनाया जा सकता है। नीचे मैं उन्हीं आदतों, स्वभाव और व्यवहार में सुधार के उपाय बताने जा रहा हूं। उन्हें अपना कर जीवन को अच्छा बना सकते हैं।

आदत, स्वभाव और व्यवहार को करें नियंत्रित

प्रतिकूल ग्रहों को शांत करने के क्रम में पहले अपनी उन खराब आदतों को जानें जिससे ग्रह और प्रतिकूल फल देते हैं। इनमें प्रमुख है घर में स्थित मंदिर पर ध्यान नहीं देना। यदि घर का मंदिर गंदा रहेगा तो बृहस्पति क्रोधित होते हैं। कुंडली में अनुकूल हों तो पूरा फल नहीं देते। प्रतिकूल होने पर समस्या और बढ़ती है। इसी तरह खाना खाने के बाद घर में जूठे बर्तनों का ढेर लगाने से चंद्रमा और शनि नाराज होते हैं। वे प्रतिकूल फल देते हैं। इससे बचने के लिए या तो बर्तन धोकर रखें या उन्हें कम से कम डाइनिंग रूम व किचन से बाहर रखा करें। रसोईघर को गंदा रखने वाले को मंगल के नकारात्मक परिणाम का सामना करना पड़ता है। देर रात तक जगने वाले को चंद्रमा का शुभ फल कम मिलता है। उसके खर्च बढ़े रहते हैं और वह तनाव में रहता है।

मेहमानों को ठंडा व स्वच्छ जल व पौधों को पानी दें

जब भी आपके घर कोई मेहमान आएं तो उन्हें ठंडा और स्वच्छ पानी अवश्य पिलाएं। ऐसा करने से राहु ठीक रहता है और अनुकूल फल देता है। इसी तरह पैर घसीटकर चलने की आदत हो तो तो इसे जल्द से जल्द सुधार लें। ऐसे लोगों का भी राहु खराब हो जाता है। नित्य प्रातः उठकर घर में लगे पौधों को पानी देने से बुध, शुक्र, सूर्य और चंद्रमा ग्रह मजबूत होकर शुभ फल देते हैं। बाथरूम में पानी को बिखेरे हुए छोड़ने तथा गंदे कपड़े वहां रखने से चंद्रमा रुष्ट हो जाता है। ऐसा करने से चंद्रमा कभी शुभ फल नहीं देता। प्रतिकूल ग्रहों को शांत करने के शांत और व्यस्थित जीवनशैली अत्यंत लाभप्रद है।

अधिक क्रोध व अस्त-व्यस्त जीवन भी नुकसानदेह

जो लोग हर समय चीखते-चिल्लाते और गुस्से में रहते हैं, उनका शनि खराब होता है। शनि के खराब होने से जमीन-जायदाद से जुड़े मसलों में नुकसान होता है। इसके विपरीत शांत रहने वाले लोगों का प्रतिकूल शनि भी कम नुकसान करता है। कमरे का बिस्तर की चादर पर सिलवटें, उसका हमेशा फैला रहना है तथा तकिए इधर-उधर बिखरे रहने वाले को भी शनि व राहु परेशान करते हैं। जो लोग घर में घुसते ही अपने चप्पल, जुराबें और कपड़े इधर-उधर फेंक देते हैं, उनके जीवन में शत्रुओं की संख्या बढ़ने लगती है। बुजुर्गों की सेवा और उनका आशीर्वाद अत्यंत लाभकारी है। विशेष रूप से इससे बृहस्पति प्रसन्न होते हैं और वे जातक को शुभ फल प्रदान करते हैं।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.