आज इन राशि वालों की चमकेगी किस्मत, मिलेगा कर्म फल, 16 जून 2022 का राशिफल और 2 दिनों का पंचांग पढ़ें

Rashifal of 16 June 2022 and 2 days panchang : वैदिक ज्योतिष शास्त्र में कुल 12 राशियों का वर्णन किया गया है। हर राशि का स्वामी ग्रह होता है। ग्रह-नक्षत्रों की चाल से राशिफल का आकलन किया जाता है। 16 जून 2022 को आषाढ़ माह कृष्ण पक्ष की द्वितीया तिथि है। ज्योतिषविदों के अनुसार, गुरुवार का दिन सत्यानारायण को समर्पित होता है। पहले 2 दिनों का पंचांग। फिर राशिफल।

16 जून 2022 यानी गुरुवार का पंचांग

आषाढ़ कृष्ण पक्ष द्वितीया, राक्षस संवत्सर विक्रम संवत 2079, शक संवत 1944 (शुभकृत् संवत्सर), ज्येष्ठ | द्वितीया तिथि 09:45 AM तक उपरांत तृतीया | नक्षत्र पूर्वाषाढ़ा 12:37 PM तक उपरांत उत्तराषाढ़ा | ब्रह्म योग 09:08 PM तक, उसके बाद इन्द्र योग | करण गर 09:45 AM तक, बाद वणिज 07:56 PM तक, बाद विष्टि |

जून 16 गुरुवार को राहु 02:08 PM से 03:48 PM तक है | 05:55 PM तक चन्द्रमा धनु उपरांत मकर राशि पर संचार करेगा।

17 जून 2022 यानी शुक्रवार का पंचांग

आषाढ़ कृष्ण पक्ष तृतीया, राक्षस संवत्सर विक्रम संवत 2079, शक संवत 1944 (शुभकृत् संवत्सर), ज्येष्ठ | तृतीया तिथि 06:11 AM तक उपरांत चतुर्थी तिथि 02:59 AM तक उपरांत पंचमी | नक्षत्र उत्तराषाढ़ा 09:56 AM तक उपरांत श्रवण | इन्द्र योग 05:17 PM तक, उसके बाद वैधृति योग | करण विष्टि 06:11 AM तक, बाद बव 04:32 PM तक, बाद बालव 02:59 AM तक, बाद कौलव | जून 17 शुक्रवार को राहु 10:47 AM से 12:27 PM तक है | चन्द्रमा मकर राशि पर संचार करेगा।

16 जून 2022 का राशिफल

मेष-मन में निराशा एवं असन्तोष के भाव रहेंगे। बातचीत में सन्तुलित रहें। शैक्षिक कार्यों के सुखद परिणाम म‍िलेंगे। यात्रा पर जाना हो सकता है। दिनचर्या अव्यवस्थित रहेगी। स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। कारोबार में वृद्धि होगी। म‍ित्रों से भेंट होगी। यात्रा पर जा सकते हैं।

वृष-वाणी में मधुरता रहेगी। अपनी भावनाओं को वश में रखें। जीवनसाथी के स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। कार्यक्षेत्र में कठिनाई आ सकती हैं। मन में शान्ति एवं प्रसन्नता के भाव रहेंगे। वाहन सुख में वृद्धि हो सकती है। लेखनादि-बौद्धिक कार्यों से धनार्जन के साधन बन सकते हैं।

मिथुन-संयत रहें। व्यर्थ के वाद-विवाद एवं झगड़ों से बचें। पिता के स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। आय में कमी एवं खर्च अधिक की स्थिति हो सकती है। कार्यों के प्रति जोश एवं उत्साह रहेगा। वाणी का प्रभाव तो बढ़ेगा, लेकिन फिर भी बातचीत में सन्तुलन बनाये रखें।

कर्क- आत्मविश्वास में कमी आ सकती है। बातचीत में सन्तुलन बनाये रखें। लेखनादि-बौद्धिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है। भाई-बहन के सहयोग से कारोबार को गति मिल सकती है। लाभ के अवसर मिलेंगे। पिता को स्वास्थ्‍य विकार हो सकते है।

सिंह-संयत रहें। धैर्यशीलता में कमी रहेगी। शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी। कारोबार पर ध्यान दें। परेशानियां आ सकती हैं। स्वभाव में चिड़चिड़ापन रहेगा। बातचीत में संयत रहें। किसी पैतृक सम्पत्ति से आय के स्रोत बन सकते हैं। माता के सहयोग से लाभ होगा।

कन्या- आशा-निराशा के मिश्रित भाव रहेंगे। घर-परिवार में धार्मिक कार्य हो सकते हैं। सेहत का ध्यान रखें। वस्त्रों पर खर्च बढ़ सकते हैं। दाम्पत्य सुख में वृद्धि होगी। परिवार में मान-सम्मान की प्राप्ति होगी। माता से धन की प्राप्ति होगी। रहन-सहन में असहज रहेंगे।

तुला-आत्मसंयत रहें। क्रोध के अतिरेक से बचें। बातचीत में भी सन्तुलन बनाये रखें। कारोबार में परिवर्तन की सम्भावना बन रही है। मन में शान्ति एवं प्रसन्नता के भाव रहेंगे, परन्तु स्वभाव में चिड़चिड़ापन भी हो सकता है। आय की स्थिति में सुधार होगा।

वृश्चिक-मानसिक शान्ति‍ रहेगी, परन्तु माता के स्वास्थ्य को लेकर चिन्तित भी हो सकते हैं। रहन-सहन अव्यवस्थित हो सकता है। वाणी में सौम्यता रहेगी। अपनी भावनाओं को वश में रखें। नौकरी में तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। घर में धार्म‍िक कार्यक्रम हो सकता है।

धनु-मन में आशा-न‍िराशा के उतार-चढ़ाव रहेंगे। धार्मिक कार्यों में व्यस्त हो सकते हैं। शैक्षिक कार्यों में व्यवधान आ सकते हैं। परिश्रम अधिक रहेगा। आलस्य की अधिकता रहेगी। घर-परिवार में धार्मिक-मांगलिक कार्य हो सकते हैं। मित्रों का सहयोग मिलेगा।

मकर राशि-मन अशान्त रहेगा। मन में नकारात्मकता का प्रभाव हो सकता है। आय के साधन तो बनेंगे, परन्तु खर्चों में वृद्धि भी हो सकती है। आत्मसंयत रहें। धार्मिक संगीत के प्रति रुझान बढ़ेगा। शैक्षिक कार्यों में कठिनाइयां आ सकती हैं। कोई सुखद समाचार म‍ि‍ल सकता है।

कुंभ राशि-मन परेशान रहेगा। शैक्षिक कार्यों के प्रति सचेत रहें। कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। आय में वृद्धि होगी। सन्तान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। धर्म-कर्म में व्यस्तता बढ़ सकती है। वाद-वि‍वाद से बचने का प्रयास करें। वाणी पर न‍ियंत्रण रखें।

मीन-धैर्यशीलता में कमी रहेगी। संयत रहें। परिवार की समस्याओं पर ध्यान दें। आय में कमी एवं खर्च अधिक की स्थिति हो सकती है। मन में निराशा एवं असन्तोष के भाव रहेंगे। रहन-सहन में असहज रहेंगे। म‍ित्रों के सहयोग से कारोबार में लाभ के अवसर म‍िलेंगे

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.