शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो बोले- बिहार में बिहारी तो झारखंड में झारखंडी को नौकरी क्यों नहीं मिलनी चाहिए

Jharkhand news : झारखंड के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने कहा है कि बिहार में बिहारी तो झारखंड में झारखंडी को नौकरी में प्राथमिकता क्यों नहीं मिलनी चाहिए। हर हाल में झारखंड में झारखंडी को नौकरी मिल नहीं चाहिए। उसका हक है। उन्होंने स्थानीय युवाओं से अपील की कि स्थानीय नीति का लाभ के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होगी। इस नीति का फायदा उठाने के लिए पढ़ाई बेहद जरूरी है। इसके लिए नियमित रूप स्कूल-कालेज आना होगा साथ ही घर में भी पढ़ाई करनी होगी। तब जाकर आपको नौकरी मिल सकती है। उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार जल्द ही 50 हजार शिक्षकों की नियुक्ति करने जा रही है। इसके बाद सभी सरकारी विद्यालयों में पर्याप्त शिक्षक हो जायेंगे। शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो बुधवार को जगरनाथ महतो इंटर कालेज मंझलाडीह में आयोजित एक समारोह में बोल रहे थे। 

बेहतर कार्य करने वाले शिक्षक भी होंगे पुरस्कृत

उन्होंने कहा कि झारखंड के सरकारी विद्यालयों में खोरठा, आदिवासी, संताली जैसी जनजातीय भाषा की पढ़ाई होगी। इन विषयों की पढ़ाई होने से झारखंडियों को सुलभता से नौकरी मिल पाएगी। उन्होंने कहा कि पढ़ाई में बेहतर प्रदर्शन करने वाले छात्रों को तो सरकार पुरस्कृत कर ही रही है, शिक्षकों के लिए भी बहुत अच्छा पुरस्कार उन्होंने सोच कर रखा है। जल्द ही बेहतर कार्य करने वाले शिक्षकों को पुरस्कृत किया जाएगा। मंत्री ने कहा कि राज्य में 100 यूनिट तक बिजली माफ है। ऐसे में सभी से अनुरोध है कि वे इसका दुरुपयोग न करें। दिन में बल्ब न जलाएं, बिजली बचाने का प्रयास करें। डीवीसी झारखंड में बिजली की कटौती कर यहां के लोगों को परेशान करने का काम कर रहा है। मैंने उसे पहले भी चेताया है कि झारखंड में एक भी पावर प्लांट को नहीं चलने दिया जाएगा।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.