|

यह मां है या पिशाचिनी : अपनी ही नाबालिग बेटी की कोख का किया सौदा, पहले अपने पुरुष दोस्त से कराया रेप, इसके बाद ऐसी गंदी…

इस दुनिया में यह विश्वास किया जाता है कि एक बेटी को सबसे अधिक भरोसा अपनी मां पर ही होती है। मां उसकी संरक्षिका होती है और साथ ही उसकी एक-एक भावना का ख्याल रखकर अपनी ममता से उसका पालन- पोषण करती है। उसकी एक परेशानी से मां का दिल बेजार हो जाता है। इसके विपरीत अगर कोई मां अपनी बेटी को ही सौदे की शय बनाने लगे, तो उसे पिशाचीनी नहीं तो और क्या कहा जाए। तमिलनाडु में एक ऐसा ही मामला सामने आया है, जिसने ममता की पावनता को कलंकित किया है।

पुलिस ने माह और उसके पुरुष दोस्त को किया अरेस्ट 

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, तमिलनाडु में एक मां ने अपनी नाबालिग बेटी का अपने पुरुष दोस्त से रेप कराया और फिर उसके एग्स का सौदा कर दिया। मामला सेलम जिले का है। जांच में पता चला है कि नाबालिग लड़की से उसकी मां का पुरुष दोस्त पहले रेप करता था और फिर उसके एग्स को अस्पतालों में बेचा जाता था। रेप पीड़िता की मां और उसके पुरुष दोस्त को गिरफ्तार कर लिया गया है।

 2017 से चल रहा था सौदे  का मामला

जांच अधिकारी ने बताया कि लड़की के साथ रेप और उसके एग्स को बेचने का सिलसिला 2017 से चल रहा था। उस वक्त लड़की नाबालिग थी। पिछले 4 साल में 8 से ज्यादा बार उसकी कोख का सौदा किया गया है। मामला सामने आने के बाद राज्य के स्वास्थ्य अधिकारियों ने लड़की से बातचीत कर उसकी काउंसिल शुरू कर दी है।

 20 हजार रुपये में बिकता था एग

पीड़िता ने बताया कि हर बार प्रेग्नेंट होने के बाद एग बेचने पर हॉस्पिटल से 20 हजार रुपये मिलते थे। इसमें से 5 हजार रुपये एक महिला कमीशन के रूप में लेती थी और बाकी पैसे मां और उसका दोस्त रखता था। ऐसा साल में दो बार किया जा रहा था।

10 साल पहले अलग हो गए थे पीड़िता के मदर फादर

पीड़िता के माता-पिता 10 साल पहले अलग हो गए थे। इसके बाद वह अपनी मां के साथ उसके पुरुष दोस्त के यहां रहती थी। कई साल से हैवानियत झेल रही लड़की मई में अपने घर से भागकर अपने दोस्त के पास चली गई थी। लड़की ने दोस्त को आपबीती सुनाई, जिसके बाद उसके दोस्त और कुछ रिश्तेदारों ने मिलकर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। इसके बाद पुलिस ने लड़की की मां और उसके पुरुष दोस्त को गिरफ्तार कर लिया है।

 कुछ डॉक्टरों और दलालों की पहचान 

राज्य के स्वास्थ्य सचिव ने मीडिया को बताया कि इस केस की जांच के लिए एक कमेटी बनाई गई है। अभी तक पॉक्सो एक्ट, आधार दुरपयोग समेत IPC की धारा 420, 464, 41, 506 (ii) के तहत केस दर्ज किया गया है। इस मामले में बांझपन के बढ़ते केस के एंगल से भी जांच की जाएगी। इधर, पुलिस का कहना है कि इस केस में कुछ डॉक्टरों और दलालों की पहचान की गई है। उन पर भी एक्शन लिया जाएगा।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.