काबुल में गुरुद्वारे पर आतंकी हमला, दो की मौत, करीब 25 लोग घायल, हमले में आईएस का हाथ होने की आशंका

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में गुरुद्वारे पर हुए आतंकी हमले में दो लोगों के मारे जाने की सूचना है। इस घटना में 25 से ज्यादा लोगों के घायल होने की खबर आ रही है। अभी भी कई लोग गुरुद्वारे के भीतर फंसे हुए हैं। कुछ घायलों को पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। गुरुद्वारा परिसर के अंदर और बाहर हुए ताबड़तोड़ विस्फोटों के बाद इस क्षेत्र में दहशत का माहौल कायम हो गया है। इस हमले में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट का हाथ होने की आशंका जताई जा रही है।

धमाकों के बाद बंदूकधारियों ने की ताबड़तोड़ फायरिंग

मिल रही जानकारी के अनुसार अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के कार्ते परवान गुरुद्वारा साहिब पर शनिवार सुबह हथियारबंद बंदूकधारियों ने हमला कर दिया। इन लोगों ने ताबड़तोड़ फायरिंग की, जिसमें साठ वर्षीय सिख श्रद्धालु सविंदर सिंह की गुरुद्वारे में ही मौत हो गयी। एक अन्य व्यक्ति की भी मौत घटनास्थल पर ही हो गयी है। ताबड़तोड़ हुई फायरिंग में जख्मी दो लोगों को अस्पताल पहुंचाया गया। फायरिंग के बाद लोग अपने को बचाने के लिए इधर -उधर भागने लगे। कुछ ने गुरुद्वारे के अंदर छुप कर तथा कुछ ने गुरुद्वारे के बाहर भाग कर अपनी जान बचाई। आतंकियों ने दहशत फैलाने के लिए गुरुद्वारे के भीतर और बाहर करीब चार धमाके किए। आतंकियों द्वारा किए गए जोरदार धमाकों से गुरुद्वारे में आग लग गयी और कई वाहन आग से जलकर क्षतिग्रस्त हो गए।

भारत ने हमले को लेकर जाहिर की चिंता

आतंकी हमले के शिकार हुए गुरुद्वारे के अध्यक्ष गुरनाम सिंह ने बताया कि इस वारदात में कम से कम 25 लोग घायल हुए हैं। दर्जनों लोग जान बचाने के लिए गुरुद्वारा परिसर के आसपास छिपे हुए हैं। विस्फोट और गोलीबारी के कारण गुरुद्वारा से सटी कुछ दुकानों में भी आग लग गयी है। आपको बता दें कि काबुल में गुरुद्वारे पर हमले की यह पहली घटना नहीं है। पिछले साल अक्टूबर में भी अज्ञात बंदूकधारियों ने गुरुद्वारे पर हमला कर तोड़फोड़ की थी। इस बीच भारतीय विदेश मंत्रालय ने काबुल में पवित्र गुरुद्वारे पर हुए हमले को लेकर चिंता जाहिर की है। साथ ही स्थिति पर बारीकी से निगरानी करने की बात भी कही है। भारतीय विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने कहा कि भारत पूरे घटनाक्रम को लेकर खासा चिंतित है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.